The art of “Self-love” – How to Love Yourself?

art-of-self-love

Self-love is actually love for yourself. It’s about taking care of yourself. It’s about taking care of your own happiness. Loving yourself doesn’t mean you are the smartest, most talented person and all other persons are less than you. It’s about when you accept your weakness, your flaws.

Continue reading “The art of “Self-love” – How to Love Yourself?”
Share this Post if you found it Helpful!

जानें, हीन भावना कैसे आपका जीवन नष्ट करती है? – सफल और सुखी रहने के लिए बंद करें अपने को हीन समझना!

आपके हृदय – सरोवर में जिन शुभ या अशुभ विचारों , भद्र या अभद्र भावनाओं या उच्च अथवा निकृष्ट कल्पनाओ का प्रवाह चलता रहता है , वही अप्रत्यक्ष रूपसे आपके व्यक्तित्व का निर्माण करता रहता है । आपका एक – एक विचार, आपकी एक – एक आकांक्षा , एक – एक कल्पना वे दृढ़ आधारशिलाएँ हैं , जो धीरे – धीरे आपके गुप्त मनको बनाया करती हैं ।

Continue reading “जानें, हीन भावना कैसे आपका जीवन नष्ट करती है? – सफल और सुखी रहने के लिए बंद करें अपने को हीन समझना!”

Share this Post if you found it Helpful!